June 19, 2024
Ganapati Chalisa

श्री गणेश : Ganapati Chalisa Lyrics Pdf – Gajanan | Lambodar |

भक्तो के लिए प्रस्तुत है श्री गणपति चालीसा (Ganapati Chalisa Lyrics)। श्री गणपति जी को प्रसन्न करने के लिये पढ़े यह चालीसा। इसके पाठ करने से भक्तो को श्री शिव-शक्ति पुत्र गजानन का आशीर्वाद प्राप्त होता है। तो चलिये बिना देरी किये पढ़ते है –

श्री गणेश चालीसा वीडियो

Ganesh Chalisa Video

Sri Ganapati Chalisa Lyrics | गजानन | लम्बोदर |

||Sri Ganesh Chalisa प्रारंभ ||

|| दोहा ||

जय गणपति सद्गुण सदन कविवर बदन कृपाल।
विघ्न हरण मंगल करण जय जय गिरिजालाल॥

|| चौपाई ||

जय जय जय गणपति राजू। मंगल भरण करण शुभ काजू॥

जय गजबदन सदन सुखदाता। विश्व विनायक बुद्धि विधाता॥

वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन। तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥

राजित मणि मुक्तन उर माला। स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला॥

पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं। मोदक भोग सुगन्धित फूलं॥

सुन्दर पीताम्बर तन साजित। चरण पादुका मुनि मन राजित॥

ganapati chalisa lyrics

धनि शिवसुवन षडानन भ्राता। गौरी ललन विश्व-विधाता॥

ऋद्धि सिद्धि तव चँवर डुलावे। मूषक वाहन सोहत द्वारे॥

कहौ जन्म शुभ कथा तुम्हारी। अति शुचि पावन मंगल कारी॥

See also  श्री सुदर्शन अष्टकम : Sudarshana Ashtakam Lyrics Pdf Benefits

एक समय गिरिराज कुमारी। पुत्र हेतु तप कीन्हा भारी॥

भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा। तब पहुंच्यो तुम धरि द्विज रूपा।

अतिथि जानि कै गौरी सुखारी। बहु विधि सेवा करी तुम्हारी॥

अति प्रसन्न ह्वै तुम वर दीन्हा। मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा॥

श्री पवनपुत्र बजरंगबली चालीसा का पाठ करें

मिलहि पुत्र तुहि बुद्धि विशाला। बिना गर्भ धारण यहि काला॥

गणनायक गुण ज्ञान निधाना। पूजित प्रथम रूप भगवाना॥

अस कहि अन्तर्धान रूप ह्वै। पलना पर बालक स्वरूप ह्वै॥

बनि शिशु रुदन जबहि तुम ठाना। लखि मुख सुख नहिं गौरि समाना॥

सकल मगन सुख मंगल गावहिं। नभ ते सुरन सुमन वर्षावहिं॥

शम्भु उमा बहुदान लुटावहिं। सुर मुनि जन सुत देखन आवहिं॥

लखि अति आनन्द मंगल साजा। देखन भी आए शनि राजा॥

निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं। बालक देखन चाहत नाहीं॥

गिरजा कछु मन भेद बढ़ायो। उत्सव मोर न शनि तुहि भायो॥

कहन लगे शनि मन सकुचाई। का करिहौ शिशु मोहि दिखाई॥

See also  देवी कामाख्या चालीसा : Maa Kamakhya Chalisa Pdf Lyrics

नहिं विश्वास उमा कर भयऊ। शनि सों बालक देखन कह्यऊ॥

पड़तहिं शनि दृग कोण प्रकाशा। बालक शिर उड़ि गयो आकाशा॥

गिरजा गिरीं विकल ह्वै धरणी। सो दुख दशा गयो नहिं वरणी॥

हाहाकार मच्यो कैलाशा। शनि कीन्ह्यों लखि सुत को नाशा॥

तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधाए। काटि चक्र सो गज शिर लाए॥

बालक के धड़ ऊपर धारयो। प्राण मन्त्र पढ़ शंकर डारयो॥

नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे। प्रथम पूज्य बुद्धि निधि वर दीन्हे॥

बुद्धि परीक्षा जब शिव कीन्हा। पृथ्वी की प्रदक्षिणा लीन्हा॥

ये भी पढ़े : श्री शिव चालीसा या माँ पार्वती चालीसा

चले षडानन भरमि भुलाई। रची बैठ तुम बुद्धि उपाई॥

चरण मातु-पितु के धर लीन्हें। तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें॥

धनि गणेश कहि शिव हिय हरषे। नभ ते सुरन सुमन बहु बरसे॥

तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई। शेष सहस मुख सकै न गाई॥

मैं मति हीन मलीन दुखारी। करहुं कौन बिधि विनय तुम्हारी॥

भजत रामसुन्दर प्रभुदासा। लख प्रयाग ककरा दुर्वासा॥

अब प्रभु दया दीन पर कीजै। अपनी शक्ति भक्ति कुछ दीजै॥

See also  श्री वीरभद्र अष्टकम : Veerabhadra Ashtakam Mantra Lyrics Pdf

|| दोहा ||

श्री गणेश यह चालीसा पाठ करें धर ध्यान।

नित नव मंगल गृह बसै लहे जगत सन्मान॥

सम्वत् अपन सहस्र दश ऋषि पंचमी दिनेश।

पूरण चालीसा भयो मंगल मूर्ति गणेश॥

तो ये आपने पढ़ी है श्री गणपति चालीसा (Ganapati Chalisa) या गजानन चालीसा। हम आशा करते है की आपको इसे पढ़कर अच्छा लगा होगा।

श्री गणेश चालीसा पढ़ने से व्यक्ति को श्री लम्बोदर भगवान जी की कृपा प्राप्त होती है। तो इसे पढ़े और लाभ उठाये।

धन्यवाद !

ये स्तोत्र भी पढ़े :

श्री वीरभद्र अष्टकम (Veerbhadra Ashtakam)

श्री इंद्र सहस्रनाम (Indra Sahasranam)

माँ मनसा चालीसा (Mansa Chalisa)