April 24, 2024

अनार के दाने लाल लाल | कबूतर करता गुटर गूँ | Lyrics

अनार के दाने लाल लाल या कबूतर करता गुटर गूँ ये दोनों एक ही कविता की पंक्तियाँ है। ये कविता बहुत ही अच्छी कविता है जिसके माध्यम से बच्चे हँसते खेलते हुए अ से ज्ञ तक की वर्णमाला याद कर सकते है। और नीचे इस वीडियो में आप ये कविता सुन भी सकते है।

अनार के दाने लाल लाल | कबूतर करता गुटर गूँ Lyrics In Hindi

Anar Ke Dane Lal Lal या Kabutar Karta Gutur Gu Lyrics

अनार के दाने लाल लाल,
आम खाते मिट्ठू लाल,
इमली खट्टी मीठे बेर,
ईख के खेत से निकला शेर,
उल्लू की है आँखें गोल,
ऊन का गोला होता गोल,
ऋषि बैठकर ध्यान लगाता,
एक बिलौटा घर को जाता,
ऐनक पहने भालू आता,
ओखल लाओ कूटो धान,
औरत देखो बड़ी महान,
अंगूर खाता है लंगूर,
अः अः पक गए खजूर
कबूतर करता गुटर गू,
खरगोश के सिर में खुजली क्यू,
गमले मे है सुन्दर फूल,
घड़ी कहे जाओ स्कूल,
चना चबाकर खाओ खुब,
छाता तानो जब हो घूप,
जल मे जाता बड़ा जहाज,
झरने की झर-झर आवाज़,
टमाटर देखो गोल मटोल,
ठठेरा बनाए वरतन गोल,
डमरू बोले डम डम बोल,
ढम ढमा ढम बाजे ढोल,
तबला बोले तक तक धिन,
थपकी देती माँ हर दिन,
दही मलाई खा गयी बिल्ली,
धनिया मटर चले अब दिल्ली,
नल का पानी बर्फ की सिल्ली,
पतंग उड़ी पीली आसमानी,
फल लेकर आई है नानी,
बकरी पी गई सारा पानी,
भवन बना है आलीशान,
मछली की पानी मे जान,
यज्ञ हवा को करते शुद्ध,
रथ पर राजा करते युद्ध,
लड़की लड्डू पूड़ी खाती,
वन की छाया मन को भाती,
शलजम मूली गाजर खाओ,
षटकोण का चित्र बनाओ,
सरसों के पीले हैं फूल,
हवा चली तो उड़ गई धूल,
क्षमा करो प्रभू बालक जान,
त्रिभुज की हम करलें पहचान,
ज्ञानी करें देश का नाम।

See also  कविता : Dekho Kalu Madari Aaya Lyrics

समाप्त !

Anar Ke Daane Lal Lal Lyrics In English

Anar Ke Daane Lal Lal

Anar ke daane lal lal,
Aam khate mitthoo lal,
Imlee khattee meethe ber,
Eekh ke khet se nikla sher,
Ulloo kee hai aankhen gol,
Oon ka gola hota gol,
Rishi baithakar dhyaan lagaata,
Ek bilauta ghar ko jaata,
Ainak pahane bhaaloo aata,
Okhal lao kooto dhaan,
Aurat dekho badee mahaan,
Angoor khaata hai langoor,
Ah ah pak gae khajoor
Kabootar karata gutar goo,
Kharagosh ke sir mein khujalee kyoo,
Gamale me hai sundar phool,
Ghadee kahe jao skool,
Chana chabaakar khao khub,
Chhaata taano jab ho ghoop,
Jal me jaata bada jahaaj,
Jharane kee jhar-jhar aavaaz,
Tamaatar dekho gol matol,
Thathera banae varatan gol,
Damaroo bole dam dam bol,
Dham dhama dham baaje dhol,
Tabala bole tak tak dhin,
Thapakee detee maan har din,
Dahee malaee kha gayee billee,
Dhaniya matar chale ab dillee,
Nal ka paanee barph kee sillee,
Patang udee peelee aasamaanee,
Phal lekar aaee hai naanee,
Bakaree pee gaee saara paanee,
Bhavan bana hai aaleeshaan,
Machhalee kee paanee me jaan,
Yagy hava ko karate shuddh,
Rath par raaja karate yuddh,
Ladakee laddoo poodee khaatee,
Van kee chhaaya man ko bhaatee,
Shalajam moolee gaajar khao,
Shatakon ka chitr banao,
Sarason ke peele hain phool,
Hava chalee to ud gaee dhool,
Kshama karo prabhoo baalak jaan,
Tribhuj kee ham karalen pahachaan,
Gyaanee karen desh ka naam.

See also  कविता : Hathi Aaya Hathi Aaya Poem Lyrics

तो ये Anar Ke Daane Lal Lal कविता समाप्त हुई। हम आशा करते है की आपको ये कविता अच्छी लगी होगी।