April 24, 2024
honey शहद की तासीर कैसी होती है

शहद (Honey) की तासीर कैसी होती है – ठण्डी या गरम

तो मित्रो आइये जानते है की शहद की तासीर कैसी होती है ठण्डी होती है या गरम और जानेंगे इसके कुछ फायदो के बारे में भी।

Honey : शहद की तासीर कैसी होती है ?

शहद की तासीर गर्म होती है और इसीलिये ठण्ड में आप इसका अच्छे से सेवन कर सकते है।

शहद क्या है ?

शहद एक प्राकृतिक मीठा पदार्थ है जो मधुमक्खियों द्वारा फूलों के रस से बनाया जाता है। मधुमक्खियाँ फूलों का रस इकट्ठा करके अपने छत्ते में संग्रहित कर लेती हैं और उसमें एंजाइम डालकर शहद बना देती हैं। शहद की तासीर गर्म, गीली और मीठी होती है।

इसमें मुख्य रूप से दो प्रकार की शर्कराएँ होती हैं – फ्रुक्टोज और ग्लूकोज। फ्रुक्टोज फलों के रस में पाया जाने वाला साधारण शर्करा है जबकि ग्लूकोज मधुमक्खियों के एंजाइम्स की उपस्थिति में फ्रुक्टोज से बनता है। ग्लूकोज एक जटिल शर्करा है जो शहद को उसका विशिष्ट मीठा स्वाद देती है इसलिए इस का स्वाद इतना मीठा होता है।

See also  सेब खाने से पहले जाने सेब की तासीर कैसी होती है ?

यह भी पढ़े : धनिया खाने के नुस्खों से ठीक करें अनेक रोग

शहद की तासीर क्यों गर्म होती है?

शहद की तासीर गर्म होने का कारण इसमें मौजूद शर्कराएँ और अमीनो ऐसिड होते हैं। इसमें ग्लूकोज और फ्रुक्टोज जैसी शर्कराएँ होती हैं, जो ऊर्जा प्रदान करती हैं। इसके अलावा इस में अमीनो एसिड भी होते हैं जो शरीर को ऊर्जा देने में मदद करते हैं। ये तत्व इसे को गर्म और ताजगी प्रदान करते हैं इसलिए शहद की तासीर गर्म होती है।

आमतौर पर शहद में 17 से 20 प्रतिशत पानी होता है। इस पानी की उपस्थिति के कारण शहद एक तरल और गीले पदार्थ का रूप ले लेता है। इसके अलावा इसमें शर्कराओं की मात्रा भी काफी अधिक होती है, जो पानी को अवशोषित कर लेती हैं।

यह भी पढ़े : चीनी खाने से पहले ये खतरनाक नुकसान जान लें

शहद के स्वास्थ्य लाभ

  • शहद में प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो कई बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं।
  • इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो इंफेक्शन से लड़ते हैं।
  • ये खांसी और जुकाम जैसी तकलीफों में राहत प्रदान कर सकता है।
  • यह नींद लाने में मददगार है और थकान को दूर करने में मदद कर सकता है।
  • यह पाचन तंत्र के लिए लाभकारी है और कब्ज की समस्या को दूर कर सकता है।
See also  अनार(Pomegranate) की तासीर कैसी होती है ?

शहद का सेवन किस प्रकार करें?

  • सुबह खाली पेट शहद और लुकेवॉर्म पाउडर का मिश्रण लेना चाहिए।
  • इसको दूध, सलाद या दलिया के साथ मिलाकर पीना चाहिए।
  • इस से मीठी चाय बनाकर पी सकते हैं।
  • सोने से पहले एक चम्मच शहद लेने से नींद अच्छी आती है।
  • इस का ताजा जूस बनाकर पीना भी फायदेमंद है।

यह भी पढ़े : दही खाने से हो सकते है नुकसान भी

शहद से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs) :

शहद कब खराब हो जाता है?

बंद बर्तन में रखा शहद लंबे समय तक टिका रह सकता है। आमतौर पर कमरे के तापमान पर रखा शहद 2 से 3 साल तक अच्छा रहता है लेकिन अगर इसे सीधे धूप में रखा जाए या बार-बार हाथ लगाया जाए तो वह जल्दी खराब हो सकता है।

शहद खाने से वजन बढ़ता है?

नहीं, शहद में पाए जाने वाले पोषक तत्व वजन नियंत्रण में मदद कर सकते हैं। इस की छोटी मात्रा में सेवन से भूख कम लगती है लेकिन इसकी ज्यादा मात्रा में सेवन से वजन बढ़ सकता है क्योंकि इसमें कैलोरीज होती हैं।

See also  क्या गर्भावस्था (प्रेगनेंसी) में गाजर का हलवा खाना चाहिये ?

इस लेख में शहद की तासीर और गुणों पर विस्तृत जानकारी दी गई है। इसके स्वास्थ्य लाभों और सेवन के तरीकों के बारे में भी जानकारी दी गई है।